Hindi mein bolo! – My first Hindi post


पता नहीं कहाँ से मुझे ऐसे हिन्दी मे ब्लॉग लिखने का विचार आ गया है | मेरा हिन्दी तो बस बोलने मे अच्छा लगता है | लेकिन मैं ने कभी सोचा नहीं था की एक बार लिख के भी देख लूँ | मुझे अब भी याद है जब मैं स्कूल मे हिन्दी निबंध लिखा करता था | क्लास मे मेरे ही निबंध को बहुत तालियाँ मिलते थे | मैडम भी क्लास के सामने पढ़ के दिखाती  थी | पर ये याद नहीं है की मैं कब से हिन्दी पढना बंद कर दिया | हाँ हो सकता है कि जब मैं ११वि कक्षा मे संस्कृत को इलेक्टिव  मे ले लिया था, तब से हिन्दी को bye -bye  बोल दिया | स्कूल के बाद कॉलेज मे भी हिन्दी नहीं था | अंग्रजी मे बोलने की आवश्यकता थी | फिर कहाँ से हिन्दी या संस्कृत याद रहेगी? पर हिन्दी बोलने वाले दोस्त तो थे | फिर भी अंग्रजी मे ही बोलने का मन रह गया | मन मे एक ऐसा डर बैठ गया कि अगर बोलने मे कहीं गलती हो गयी तो सब सतायेंगे | और ये भी बोलेंगे कि मैं बहुत scene मार रहा हूँ | इसी  डर मे हिन्दी बोलना और लिखना भी धीरे धीरे रुक गया | लेकिन मन के कोने मे एक छोटी सी आशा थी कि हिन्दी मे किसी न किसी से बातें कर लूं ताकि भूल न जाऊँ इसको |


कहाँ से शुरू करूँ? ये तो मुझे पता नहीं | बस लिखना है | Company मे join करने से पहले और उसके बाद बहुत सारे लोगों से हिन्दी में बोलने का मौका मिला |  अब तो मुझपे भरोसा है कि हिन्दी में बोल तो सकता हूँ फिर भी बीच बीच मे कुछ शब्दों को भूल जाता हूँ | मेरा vocabulary  कम हो गया है | और मैंने हिन्दी में MA बराबर degree पास की है (राष्ट्रभाषा प्रवीण) | वो हिन्दी प्रचार सभा मे जो परीक्षा लिखते हैं सारे चेन्नई स्कूल के बच्चे | मैंने भी सारा का सारा exams लिख लिख के ख़तम कर दिया था प्रवीण उत्तारार्ध तक  | मेरे माता पिता बहुत खुश हुए कि सभी रिश्तेदारों के बच्चों  के सामने अपना बेटा हिन्दी परीक्षा पास कर लिया और वो kerosene महकता हुआ २ shawls भी प्रचार सभा  से पा लिया है |  पर इससे मेरा क्या हुआ? मैंने क्या पाया? सिर्फ हिन्दी degree  और certificates , बस | सिर्फ पास होने मे क्या फ़ायदा है, उसका इस्तेमाल किये बिना? मौका तो अब मिल रहा है और मिला भी था इसके पहले | बस उसीका पूरा इस्तेमाल कर रहा हूँ | सोच रहा हूँ कि फिर से दिल्ली चले जाऊं | शायद वहाँ पूरा फ़ायदा रहेगा | लेकिन मुमकिन बातों को सोचने की आदत पड़ गयी है मुझे तो अब छोड़ देते हैं दिल्ली जाने की बात को |


बात तो ये है की मैं पहले दिल्ली मे ही था | पापा तो वहाँ ही काम करते थे defense  में | फिर ट्रान्सफर लेके हम सब चेन्नई आगये | तो मैं बचपन से ही वहाँ था और स्कूल मे पढ़ा लिखा | तभी तो मुझे हिन्दी बोलने आती है बिना पढ़े ही | अब तो ये चीज़ बहुत useful  रह गया की मुझे बहुत मेहेनत करके हिन्दी नहीं पढनी थी | बस व्याकरण और कुछ और शब्दों का इस्तेमाल जानन था | बाकी सब मेरे को आसानी से आता था | मैं अपने आप से भी essays लिख सकता था | लेकिन अब थोडा मुश्किल होगया है लिखने को | कुछ कुछ शब्दों की सोच सोच के लिखना पड़ रहा है | धीरे धीरे सुधर रहा हूँ |


अचानक ये मेहसूस हो रहा है कि मुझे इसके उपर फिर से दिलचस्पी आगया है | मुझे ये देख कर आश्चर्य हो रहा है कि मैं ३ पाराग्राफ लिख के बैठा हूँ | वाह कल्याण तुम तो अब भी बहुत मस्त लिखते हो :P|


चलो अब यहाँ मैं इस पोस्ट को समाप्त कर लेता हूँ | कुछ अच्छे topic या कहानी लेके फिर से आऊंगा यहाँ पे | आप भी आईए |


P.S: This is my first Hindi post in my blog! Literally writing something in Hindi after a very long time!!!🙂

10 thoughts on “Hindi mein bolo! – My first Hindi post

  1. Hey Calvin, Nothing is there to be ashamed!!! Its just that u don’t know it thoroughly!! Just develop some interest and u’ll learn it easily!!🙂 Cheers!!

    Probably u shud use Google Translator to translate it😛 but I tried translating it using Google Translator, it is showing word by word translation!!! I myself cudnt understand it and it was so funny!!!😀

  2. @Yasmeen: Thanks a lott!!🙂

    And by the way u regularly external blog also uh?? Gud!! Hope d same stuff as in Infyblogs too!!😀 anyway I’ll follow ur blog too and lemme know wenever u update!!

  3. Reading the whole post was tough!!

    but I must say u have tons of patience!!!!!!!!!!!😮 and yea punishment to u as u used some English words like company and join😛

  4. @Afshan: Ohhh tough uh? :S……Patience..yea I do have little!!!😀 but sometimes I lose it! But yea I felt using it in Hindi would be too grammatical, that’s y used it in English itself!!😀

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s